एक दिन में 10 हजार श्रद्धालु ही कर सकेंगे मां पूर्णागिरी के दर्शन

टनकपुर: कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने मां पूर्णागिरि मेले में एक दिन में मात्र दस हजार श्रद्धालु के दर्शन कराने का निर्णय लिया है। जिसके लिए श्रद्धालुओं को पहले चम्पावत पोर्टल में पंजीकरण करना होगा जिसके बाद ही मां पूर्णागिरि के दर्शन हो पाएंगे। चंपावत प्रशासन ने पोर्टल तैयार कर लिया है। जिस हिसाब से अब एक माह अधिकतम तीन लाख श्रद्धालु ही मां पूर्णागिरि के दर्शन कर सकेंगे।
बता दे कि उत्तर भारत के चंपावत जनपद के टनकपुर स्थित सुप्रसिद्ध मां पूर्णागिरि मेला 30 मार्च से शुरू होने जा रहा है। कोरोना महामारी के चलते गत वर्ष मेले को बीच में ही स्थगित करना पड़ा। कोरोना संक्रमण कम होने पर जिला प्रशासन ने इस बार मिले को सावधानी के साथ करने के लिए रूपरेखा तैयार कर ली है। हर वर्ष तीन माह के लिए लगने वाले मेले को इस वर्ष एक माह में ही करने का निर्णय लिया गया है। कोरोना संक्रमण के प्रभाव को देखते हुए इस अवधि को घटाया बढ़ाया जा सकता है। फिलहाल जिला प्रशासन ने मेला शुरू करने की तैयारी कर दी है। जिस क्रम में पार्किंग, मुंडन, बिजली, टेंट आदि के ठेके शुरू कर दिए हैं।
इसके अलावा प्रशासन ने पूर्णागिरि मेले के लिए पोर्टल बनाया है जिसमें रजिस्ट्रेशन करने के बाद ही श्रद्धालु मां पूर्णागिरी के दर्शन कर सकेगा। साथ ही निर्णय लिया गया है कि एक दिन में 10 हजार श्रद्धालुओं का ही रजिस्ट्रेशन कराया जाएगा। जबकि पूर्व के वर्षों में एक दिन में लाखों श्रद्धालु दर्शन करते थे।

Ad