कार्यकाल पूरा होने से पहले ही इस्तीफा देने वाले मुख्यमंत्रियों की जमात में शामिल हुए त्रिवेंद्र

देहरादून: इसे दुर्भाग्य ही कहेंगे कि विकास की परिकल्पना को लेकर बने 21 वर्ष के उत्तराखंड में अब तक 11 बार सत्ता परिवर्तन हो चुका है। मंगलवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं करने वाले मुख्यमंत्रियों की जमात में आ गए हैं। सूबे में स्वर्गीय एनडी तिवारी ही अकेले मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा किया।
बता दे की त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 18 मार्च 2017 को राज्य के आठवे मुख्यमंत्री के रूप में सत्ता संभाली थी। और अपने चार साल के कार्यकाल से 9 दिन पहले ही मंगलवार को उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। 21 साल के उत्तराखंड में अब तक आठ मुख्यमंत्री बन चुके हैं। लेकिन सात मुख्यमंत्री अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए। स्वर्गीय एनडी तिवारी ही ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने अपने पांच साल का कार्यकाल पूरा किया। अलग राज्य बनने के बाद सूबे में गढ़वाल मंडल के पांच वह कुमाऊं मंडल के तीन मुख्यमंत्री बने हैं। इसे राज्यवासियों का दुर्भाग्य ही कहेंगे कि पहाड़ व वहां के लोगों के के विकास के लिए बना उत्तराखंड आज तक मुख्यमंत्रियों को ढोते हुए आ रहा है। लेकिन विकास अपनी जगह पर खड़ा है।

Ad