गदरपुर थाना एसओ पर दबिश के दौरान एक महिला को थप्पड़ मारने का आरोप, जांच के आदेश

रुद्रपुर: गदरपुर थाना एसओ पर दबिश के दौरान एक महिला को थप्पड़ मारने का मामला सामने आया है. आज ग्रामीणों ने एसएसपी से मुलाकात कर मामले में कार्रवाई की मांग की है. महिला संग अभद्रता करने के मामले में सीओ बाजपुर को पूरे प्रकरण की जांच के निर्देश दिए हैं. घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें एसओ राजेश पांडे महिला को थप्पड़ मरते हुए नजर आ रहे हैं.

गदरपुर थाना क्षेत्र के ठंडा नाला गांव में बुधवार आधी रात पुलिस की दबिश से हंगामा खड़ा हो गया. पुलिस पर आरोप है कि वो एक व्यक्ति को जबरन ले जाने की कोशिश कर रही थी, जिसका उसके परिजनों ने विरोध किया. इस बात से नाराज एसओ राजेश पांडे ने विरोध कर रही एक महिला को थप्पड़ जड़ दिया. इस दौरान नीली टीशर्ट पहने गूलरभोज चौकी इंचार्ज ने एसओ को समझाने की कोशिश की लेकिन एसओ ने उसको भी झिड़क दिया. काफी देर तक चले हंगामे के बाद पुलिस वहां से चली गई. इसका वीडियो अब वायरल हो रहा है. ग्रामीण एसओ की इस हरकत पर एतराज जता रहे हैं.

आज पीड़ित परिवार के साथ ग्रामीण एसएसपी कार्यालय पहुंचे. सभी ने मामले की जानकारी एसएसपी मंजूनाथ टीसी को दी. पीड़ित लियाकत अली ने बताया कि कल (बुधवार) देर रात गदरपुर एसओ राजेश पांडे, गूलरभोज चौकी इंचार्ज और सिपाहियों के साथ उनके घर के बाहर पहुंचे और उनसे पूछा कि उनके भाई पप्पू के बेटे कहां है. उन्होंने तत्काल घर पर मौजूद भाई के दोनों बेटों को बुला लिया, जबकि तीसरा बेटा घर से बाहर था. उसके 15 मिनट में आने की बात कही. इतना सुनते ही एसओ ने कहा कि 15 मिनट नहीं एक मिनट में लड़का यहां चाहिए. इसी के साथ एसओ ने लियाकत अली का हाथ पकड़ लिया और उन्हें अपने साथ ले जाने लगे. परिवार के लोगों ने इसका विरोध किया. इस दौरान एसओ अपना आपा खो बैठे और विरोध कर रही महिला को थप्पड़ जड़ दिया.

पीड़ित लियाकत अली का कहना है कि उनको इस बात की जानकारी नहीं है कि पुलिस क्यों उनके भाई के बेटों के लिए उनके घर पहुंची थी. वहीं, पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, बाइक चोरी के एक मामले में कुछ लड़कों का नाम सामने आया था. पीड़ित के भाई पप्पू का एक बेटा भी आरोपी था तो उसी की तलाश में पुलिस घर तक पहुंची थी. वहीं, एसएसपी मंजूनाथ टीसी ने बताया कि एसओ पर महिला के साथ अभद्रता करने का आरोपों की जांच सीओ बाजपुर को सौंपी गई है. जांच में देखा जाएगा कि बल प्रयोग किन परिस्थितियों में हुआ, कैसे हुआ और पूरी जांच के बाद मामले की सही जानकारी मिल सकेगी.

Ad