जंगली जानवरों के आतंक से निजात नहीं मिली तो न्यायालय की शरण में जाएंगे किसान

8
डीएफओ से मिले गौलापार व चोरगलिया के ग्रामीण
जंगली जानवरों से निजात दिलाने व मुआवजा देने की मांग

लालकुआं: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पूर्व कैबिनेट मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल के नेतृत्व में तराई पूर्वी वन प्रभाग के डीएफओ से मुलाकात कर गौलापार व चोरगलिया क्षेत्र में जंगली जानवरों के आतंक से निजात दिलाने व जानवरों द्वारा नष्ट की गई फसलों का मुआवजा देने की मांग की। ग्रामीणों ने विभाग द्वारा उचित कार्यवाही नही करने पर न्यायालय की शरण में जाने की चेतावनी दी है।
शनिवार को गौलापार व चोरगलिया क्षेत्र के दर्जनों ग्रामीण व कांग्रेसी कार्यकर्ता पूर्व कैबिनेट मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल के नेतृत्व में हल्द्वानी में तराई पूर्वी वन प्रभाग के डीएफओ संदीप कुमार के कार्यालय पहुंचे। इस दौरान ग्रामीणों ने डीएफओ से कहा कि गौलापार व चोरगलिया क्षेत्र में हाथी, नील गाय व अन्य जंगली जानवरों का आतंक व्याप्त है। जिससे क्षेत्र के किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है। इस दौरान पूर्व चेयरमैन गन्ना समिति बलवंत सिंह मेहरा ने मांग की कि वन विभाग द्वारा स्थलीय निरीक्षण कराकर किसानों को मुआवजा दिलाया जाए। वरना गांव के किसान उच्च न्यायालय की शरण में जाएंगे। इस मौके पर ब्लॉक अध्यक्ष नीरज रेक्वाल, कांग्रेस जिला महामंत्री हेमंत साहू, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष लाल सिंह पवार, अर्जुन बिष्ट, ग्राम प्रधान उमा रैक्वाल, प्रेम मेहरा, चित्रा बिष्ट, बहादुर सिंह, सुरेंद्र सिंह, मुकेश मेलकानी, ज्ञान सिंह, कृपाल सिंह समेत तमाम जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

Ad