कांग्रेस की तरफ से राज्यपाल कोश्यारी के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन, जानिए क्यों जलाये पुतले

महाराष्ट्र के नांदेड़ में कांग्रेस की तरफ से राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन हुए। नांदेड़ में राज्यपाल कोश्यारी की प्रतीकात्मक मूर्ति पर जूते मारकर एवं कोश्यारी की पुतला जलाकर विरोध व्यक्त किया गया।

शहर के ITI चौक क्षेत्र में कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया गया। उन्होंने कुछ दिनों पहले छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे में बयान दिया था जिसपर झगड़ा हो गया। कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि कोश्यारी द्वारा दिया गया बयान आपत्तिजनक है, इसलिए पूरे देश में कांग्रेस द्वारा आंदोलन किया जा रहा है।

इसके साथ ही इस आंदोलन में श्रद्धा के साथ हुए अपराध को लेकर भी इंसाफ दिलाने की मांग रखी गई। कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार को इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाना चाहिए तथा शीघ्र से शीघ्र सजा मिलनी चाहिए। इस आंदोलन में सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

दरअसल, राज्यपाल कोश्यारी औरंगाबाद में मौजूद डॉ। बाबासाहेब अंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय के दीक्षांत कार्यक्रम में सम्मिलित हुए थे। यहां उन्होंने केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी एवं NCP सुप्रीमो शरद पवार को डिलिट की उपाधि से सम्मानित किया। इस के चलते कोश्यारी ने शिवाजी महाराज को पुराने युग का आदर्श बताया था तथा केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी एवं शरद पवार को नए युग का आदर्श बताया था। भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि यदि कोई आपसे पूछता है कि आपका आदर्श कौन है, तो आपको उसे तलाशने के लिए बाहर जाने की आवश्यकता नहीं है, वे आपको यहीं महाराष्ट्र में मिल जाएंगे। छत्रपति शिवाजी महाराज तो पुराने युग की बात है। अब नए युग में तो डॉ। बाबासाहेब अंबेडकर से लेकर नितिन गडकरी तक आपको यहीं मिल जाएंगे।

Ad