घटी अनसुनी सी घटना, शख्स ने पूर्व पत्नी को लगा दिया एचआईवी पॉजिटिव खून का इंजेक्शन

खबर शेयर करें -

सूरत में एक बेहद ही हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। रांदेर इलाके में एक शंकाशिल शख्स की हेवानियत का मामला सामने आया है। पूर्व पत्नी के चरित्र पर शक कर शख्स ने उसे एचआईवी पॉजिटिव खून का इंजेक्शन लगाया जिससे महिला की हालत गंभीर हो गई और बेहोशी की हालत में उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया।

अस्पताल में महिला होश में आयी तो उसने डॉक्टरों को बताया

जब महिला को होश आया तो उसने डॉक्टरों को शख्स की करतूत के बारे में बताया। महिला ने डॉक्टरों को बताया कि उसके पूर्व पति ने उसे इंजेक्शन लगाया था। इंजेक्शन किस लिए लगाया गया, यह किसी को नहीं पता। इस घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस दौड़ पड़ी।

महिला की शिकायत के आधार पर जब शख्स को गिरफ्तार किया गया तो उसने पुलिस के सामने अपने द्वारा की गई क्रुरता की बात कबूल कर ली। पुलिस के होश तब उड़ गए जब उसने कबूल किया कि उसने अपनी पूर्व पत्नी को एचआईवी पॉजिटिव खून का इंजेक्शन लगाया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर शख्स को गिरफ्तार कर लिया है और जांच कर रही है।

पत्नी को घुमाने के बहाने ले जाकर इंजेक्शन लगाया

रांदेर पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यास्मीन अमीमुद्दीन सेरअली सैयद की ओर से शिकायत मिली है। 30 वर्षीय यास्मीन चौकबजार, मुगलिसरा क्षेत्र के पास चिंतामणि जैन देरासर, मस्कन 3 अपार्टमेंट मकान नं. 302 में रहती है। यास्मीन ने अपने पूर्व पति शंकर मोहन कामले उम्र 35 के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। वह मोरा भागल में एसएमसी क्वार्टस सुमनशांति अपार्टमेंट, ई-102 में रहता है।

यास्मीन ने शिकायत में कहा है कि उसका शंकर से तलाक हो गया है।  रविवार 25 दिसंबर को रात करीब 8 बजे शंकर उसे घुमाने ले गया। उसे रांदेर में रेयान स्कूल के सामने कोटयार्क नगर एक्सप्रेस कार वॉश के सामने एक खुले स्थान पर ले गया। इधर, अंधेरे का फायदा उठाकर शंकर यास्मीन के बाएं पैर में बेहोशी और संक्रामक इंजेक्शन लगाकर भाग निकला।

शंकाशील पती ने खुद इंजेक्शन लगाने की बात पुलिस को कही

यास्मीन का इलाज चल रहा है। डॉक्टर भी सहमे हुए हैं। पुलिस ने शंकर को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि एचआईवी पॉजिटिव युवक के खून से शंकर को इंजेक्शन कैसे लगा। लेकिन इस पूरी घटना ने सूरत के लोगों को झकझोर कर रख दिया है। विश्वास नहीं होता कि इतनी क्रुरता भी कोई कर सकता है।

15 साल पहले की थी लव मैरिज

यास्मीन और शंकर ने 15 साल पहले प्रेम विवाह किया था। शादी हिंदू रीति-रिवाज से हुई थी। शादीशुदा जिंदगी के दौरान निशा और सुमीत नाम के दो बच्चे हुए। इस बीच यास्मीन का तलाक हो गया क्योंकि शंकर को उसके चरित्र पर शक था। रविवार को वह यास्मीन को घुमाने के बहाने ले गया और बहोशी तथा एचआईवी का इंजेक्शन लगा दिया।