पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई के खिलाफ FIR

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के भेलूपुर थाने में 18 लोगों के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इन 18 लोगों में एक नाम ऐसा है, जो चर्चा का विषय बना हुआ है। यह नाम है गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई का। जिन पर आईटी एक्ट और साजिश रचने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है।

यह एफआईआर गौरीगंज इलाके में रहने वाले गिरिजा शंकर ने दर्ज कराई है। गिरिजा शंकर का कहना है कि व्हाट्सएप के एक ग्रुप में एक वीडियो द्वारा पीएम मोदी के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी की गई। जिसके बाद उसने उस नंबर पर कॉल कर के वीडियो पर सवाल उठाया। जिसके बाद यूट्यूब पर एक वीडियो डाल दिया गया। जिसमें उसका मोबाइल नंबर डाल दिया गया। तब से लगातार उसके मोबाइल पर जान से मारने की धमकी वाले कॉल आ रहे हैं।

जिसके बाद उसने न्यायालय में 156 के तहत गुहार लगाई। तब न्यायालय ने भेलूपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज करा कर जांच के आदेश दिए और पीड़ित गिरिजा शंकर ने भेलुपर थाने में 18 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। इसमें उनसे गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई समेत गूगल के अन्य दो अधिकारी का नाम भी शामिल किया है।

भेलूपुर थानाध्यक्ष अमित मिश्रा ने बताया कि पीड़ित गिरिजा शंकर द्वारा ये एफआईआर लिखवाई गई है, जिसमें गूगल के सीईओ भी शामिल हैं। मुकदमा पंजीकृत कर जांच की जा रही है।

बता दें कि देश में अभी ट्विटर पर कंटेंट को लेकर ट्विटर से बात चल हो रही है। ऐसे में अब गूगल के सीईओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाना खासा चर्चा का विषय है।

Ad