मैंने सभी को मार डाला, क्यों न मारता तानों से परेशान होकर केशव ने खत्म कर दिया अपना परिवार

पालम के राजनगर पार्ट-2 में रहनेवाले अपने माता-पिता, बहन और दादी की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार केशव सैनी (25) को अपने किए पर कोई पछतावा नहीं है। गिरफ्तार होने के बाद वह पुलिस लॉकअप में आराम से सोया और खाना खाया-पिया। पुलिस ने जब उससे पूछा कि तूने अपने पूरे परिवार को क्यों मारा? तेरे हाथ एक बार भी नहीं कांपे कि जिन्होंने तुझे पैदा किया है, तू उन मां-बाप का ही कत्ल करने वाला है? दादी और बहन को मारते वक्त तुझे नहीं लगा कि ऐसा क्यों कर रहा है?

पुलिस को एक झटके में दे दिए सभी सवालों के जवाब
पुलिस के इन तमाम सवालों के जवाब आरोपी केशव ने एक झटके में दे डाले। मामले को एसीपी अनिल शर्मा, पालम थाने के एसएचओ लक्ष्मी नारायण, इंस्पेक्टर एटीओ योगेश कुमार, एएसआई राम सिंह और हवलदार मनोज की टीम ने सुलझाया। मौके से सीसीटीवी कैमरे की फुटेज, चापड़ और आरोपी का मोबाइल फोन समेत अन्य चीजें जब्त कर ली गई हैं। तफ्तीश जारी है।

गिरफ्तार आरोपी केशव से हुई पूछताछ मामले में पुलिस ने बताया कि इन तमाम सवालों के जवाब में आरोपी फूट-फूटकर नहीं रोया, बल्कि पूरे होशोहवास में पुलिस अधिकारियों के सामने कहा कि हां, मैंने सभी को मार डाला और क्यों ना मारता। घरवाले हर दिन मुझे नशा करने को लेकर और नौकरी ना करने के लिए ताने देते रहते थे। कहते थे कि नशा करने के लिए आए दिन हमसे पैसे मांगता रहता है। कुछ काम-धंधा क्यों नहीं करता। अगर ऐसे ही चलता रहा तो तेरी शादी भी नहीं हो पाएगी। खासतौर से मां बहुत बुरा-भला कहती थी कि पूरे दिन कुछ काम नहीं करता। घरवाले धमकी देते रहते थे कि यह सब गलत काम छोड़ दे नहीं तो तो तेरी जमानत कैंसल कराकर तुझे फिर से तिहाड़ जेल भिजवा देंगे। बता दें कि चोरी और लूट के मामले में केशव गिरफ्तार करके तिहाड़ जेल भेजा गया था। फिलहाल वह जमानत पर जेल से बाहर चल रहा था।

दिनभर के तानों से था परेशान
आरोपी केशव ने पुलिस को बताया कि रोज-रोज के इन तानों को सुन-सुनकर उसके दिल में बड़ी उथल-पुथल मचती जा रही थी। जिसका गुबार मंगलवार सुबह मां के ड्यूटी जाने से पहले उनके साथ इन्हीं बातों को लेकर हुई कहासुनी के बाद निकला। इन्हीं बातों को लेकर उसके अंदर घरवालों के खिलाफ नफरत भर गई। फिर मां और पिता के ड्यूटी जाने के बाद जब बहन भी घर से बाहर चली गई तो कुछ देर बाद वह भी घर से बाहर चला गया। उसके मन में घरवालों को मारकर इन तानों से बदला लेने का भूत सवार होने लगा।

घर के अंदर घात लगाकर बैठ गया
फिर मंगलवार शाम करीब 5 बजे जब वह घर आया तो सबसे पहले उसने मंगलवार शाम करीब 6:15 बजे 70 साल की अपनी दादी दीवानो देवी का सोते हुए उनके तकिए से मुंह दबाकर हत्या कर दी। दादी को मारने के बाद वह रसोई में गया। जहां से चापड़ जैसा बड़ा चाकू उठाकर लाया और अपने माता-पिता और बहन के आने का इंतजार करने लगा। वह घर के अंदर घात लगाकर बैठ गया। करीब एक घंटे बाद शाम 7:15 बजे पिता दिनेश सैनी (48) ड्यूटी से घर आए।

वह पिता से कुछ नहीं बोला, बस मौके की ताक में रहा। जैसे ही पिता कपड़े बदलने के लिए रूम में गए, उसने पीछे से अपने पिता का एक हाथ से मुंह दबाते हुए दूसरे हाथ में लिए चापड़ से उनका गला काट दिया। पिता ने अपने को बचाने के लिए थोड़ा संघर्ष भी किया। लेकिन तब तक उनका गला कट चुका था और चंद सेकंड में वह फर्श पर गिर पड़े। उनके मरने के बाद उसने तुरंत शव को खिसकाते हुए बाथरूम में लिटा दिया और सारे फर्श को कपड़े से साफ किया। दादी और पिता की हत्या करने के कुछ देर बाद रात करीब 9 बजे उसकी मां दर्शन (48) ड्यूटी से घर आईं। उसने गेट खोला और मां से कहा कि देख बाथरूम में क्या है।

बचाओ, बचाओ… चिल्लाते हुए भागी थी बहन
बाथरूम में मां के जाते ही उसने मां का भी चापड़ से गला काट दिया। इसके कुछ देर बाद करीब 9:15 बजे उसकी बहन उर्वशी (22) घर आई। इसी तरह से उसने अपनी बहन को भी मार दिया। बहन उससे बचने के लिए घर के गेट की ओर बचाओ, बचाओ… चिल्लाते हुए भागी भी। लेकिन जबतक बहन गेट खोलकर उसकी गिरफ्त से बाहर जा पाती, तबतक बहन को भी पकड़कर चापड़ से मार डाला।

इसी दौरान उसके ताऊ का लड़का कुलदीप घर के नीचे आ चुका था। जिसने उर्वशी के चिल्लाने की आवाज सुनी और वह घर की दूसरी मंजिल पर आ गया। वहां उसने गेट खुलवाने की कोशिश की। लेकिन केशव ने गेट नहीं खोला, बल्कि उसने घर का सोफा खिसकाकर गेट पर लगा दिया। ताकि बाहर से धक्का देने पर भी गेट ना खुले। अब घर के अंदर चारों लोग मर चुके थे। उसने अपने को बचाने के लिए रसोई की साफ्ट से कूदकर भागने की कोशिश की लेकिन पकड़ा गया।

क्राइम सीन रीक्रिएट कराया गया
पुलिस का कहना है कि केशव के ऊपर द्वारका साउथ में 2019 में झपटमारी और लूट के दो मामले दर्ज हैं। जबकि एक्साइज एक्ट में एक मुकदमा पालम थाने में भी दर्ज है। उसके खिलाफ बैट्री चोरी का भी एक मामला है। साउथ-वेस्ट दिल्ली के डीसीपी मनोज सी ने बताया कि आरोपी केशव वारदात के वक्त नशे में नहीं था। उसे मौके पर ले जाकर गुरुवार को घर पर क्राइम सीन रीक्रिएट कराया गया। जिसमें उससे पता लगाया कि उसने कब कैसी स्थिति में अपने परिवार के चार लोगों की हत्याकांड को अंजाम दिया।

Ad