सैन्य अधिकारी बनकर ओ एल एक्स पर वाहन बेचकर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

रुद्रपुर : एसटीएफ कुमाऊं वह साइबर टीम के हाथ आज बड़ी कामयाबी हाथ लगी, शहर में सैन्य अधिकारी बनकर ओ एल एक्स पर वाहन बेचकर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए टीम ने दो आरोपियों को राजस्थान से गिरफ्तार किया, साथ ही यह भी उम्मीद जताई कि उनसे पूछताछ के बाद कई चौंकाने वाली घटनाओं का खुलासा हो सकता है।
आजकल के डिजिटल जमाने में कई लोग अपनी जरूरत का सामान खरीदने या पुराना सामान बेचने के लिए कई ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का सहारा ले रहे हैं, जिसका फायदा कई जालसाज उठाने लगे हैं, लगातार बढ़ रही घटनाओं को लेकर एसटीएफ और साइबर थाना टीम को इसके खुलासे के लिए लगाया गया था। इसी कड़ी में जालसाज ओने ऋषिकेश निवासी सोहन सिंह को अपना शिकार बनाया था जिस पर आईटी एक्ट का अभियोग पंजीकृत कर विवेचना साइबर थाना कुमाऊं के निरीक्षक ललित मोहन जोशी को सौंपी गई थी।
टीम ने अपनी सूझबूझ दिखाते हुए धोखाधड़ी में प्रयोग किए गए मोबाइल फोन नंबर के साथ ही शिकार व्यक्ति द्वारा धनराशि जिन बैंक खातों में ट्रांसफर किए गए उन बैंकों की जानकारी हासिल कर अहम सुराग बटोरे। बैंक खाते की जांच में पता लगा कि यह खाते राजस्थान राज्य के मेवात क्षेत्र के हैं जानकारी मिलते ही टीम ने मेवात में डेरा डाल दिया, मेवात के जामताड़ा झारखंड की तरह राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा की सीमा परिवेश में बड़ा साइबर अपराध का गढ़ होने की बात सामने आई।
जांच में निकले सुरागों से टीम ने दबिश देकर चिन्हित किए गए दो आरोपियों को गिरफ्तार किया आरोपियों ने अपना नाम राहुल पुत्र यूनुस खान निवासी ग्राम लालपुर थाना कामा जिला भरतपुर राजस्थान, एवं सलमान पुत्र रोजगार निवासी लोहे का थाना कामा जिला भरतपुर राजस्थान बताया है। आरोपियों के पास से मोबाइल फोन के साथ विभिन्न आधार कार्ड भी मिले हैं।
टीम निरीक्षक साइबर क्राइम थाना कुमाऊं परिक्षेत्र ललित मोहन जोशी, एसआई दिनेश एवं मोहम्मद उस्मान सहित मनमोहन, संजय कुमार, आदि शामिल थे।

Ad