16वर्षीय किशोरी ने सरयू में लगाई छलांग, खोजबीन में कोई सुराग नहीं

बागेश्वर : जिला मुख्यालय में एक किशोरी ने बुधवार को सरयू में छलांग लगा दी। किशोरी की काफी खोजबीन की गई लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। बुधवार की सुबह 16वर्षीय किशोरी ने नगर के बिलौना बाईपास पुल के पास से सरयू में छलांग लगा दी।

पास में मौजूद कुछ लोगों ने किशोरी को नदी में कूदते हुए देखा। लोगों ने शोर भी मचाया लेकिन उफान पर आई नदी में जाने की किसी की हिम्मत नहीं हुई। मौके पर पहुंची पुलिस, एसडीआरएफ और दमकल की टीम ने नदी में काफी दूर तक खोजबीन की लेकिन किशोरी का कोई सुराग नहीं लगा।


सीओ शिवराज सिंह राणा ने बताया कि किशोरी अपनी मां के साथ रहती थी। उसकी मां एक शैक्षिक संस्थान में कार्यरत हैं। उसके पिता की पहले ही मृत्यु हो चुकी है। किशोरी 12वीं की छात्रा है। उन्होंने बताया कि किशोरी की खोजबीन जारी है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार किशोरी स्कूल की ड्रेस में थी।

हर  साल बागेश्वर की नदियों में लोगों के बहने, कूदने की घटनाएं सामने आती रहती हैं। 23 अगस्त को खुनौली (कांडा) निवासी सेवानिवृत्त सैनिक मुरलीधर कांडपाल (96) ने बिलौना पुल से सरयू में छलांग लगा दी थी। उनका शव बरामद हो गया था। उससे पहले सरयू से अवैध खनन कर रहा एक नेपाली मजदूर बह गया था। उसका अब तक कोई सुराग न लगा।
उससे पहले विकास भवन के पास स्यालडोबा निवासी एक विवाहिता सरयू में कूद गई थी। उसको बचाने में उसकी चाची भी बह गई थी। विवाहिता का तो शव बरामद हो गया था। उसकी चाची का अब तक सुराग नहीं लगा। इसी माह एक युवक सरयू में बह गया था। उसका शव पिथौरागढ़ जिले की सीमा में सेराघाट के पास से बरामद हुआ था।

Ad