अगर आपके शरीर में भी दिखाई देते हैं ये लक्षण तो आपको भी हो सकता है एनीमिया

दोस्तों अगर आपके शरीर में यह लक्षण भी दिखाई देते हैं तो आपको हो सकती है एनीमिया की शिकायत तो चलिए दोस्तों कैसे होती है. जाने कि हम इस आर्टिकल में.

एनीमिया को फटी हुई एनीमिया से जोड़ा जाता है। बीमारी ज्यादातर लड़कियों को प्रभावित करती है। इस बीमारी में, फ्रेम में लोहे की मात्रा कम हो जाती है, जिससे हीमोग्लोबिन का निर्माण होता है। एनीमिया का कारण एनीमिया है। जब हीमोग्लोबिन फ्रेम के साथ कम हो जाता है, तो नसों में ऑक्सीजन का प्रवाह कम हो जाता है। यही कारण है कि एनीमिया समस्याओं का कारण बनता है। जब रक्त की हानि होती है, तो फ्रेम को महत्वपूर्ण ऊर्जा प्राप्त नहीं होती है। फ्रेम के वजन को ध्यान में रखते हुए, मानव फ्रेम के साथ लोहे की मात्रा तीन से पांच ग्राम है। जब यह स्तर कम हो जाता है, तो रक्त का उत्पादन कम हो जाता है। यह अनुमान है कि भारत में 60% आबादी एनीमिक है, जिनमें से बड़ी संख्या में लड़कियां हैं।

 

credit: third party image reference

 

एनीमिया क्यों होता है?

आयरन की कमी से फ्रेम रुक जाता है

कैल्शियम की अधिकता से भी एनीमिया हो सकता है।

एनीमिया फ्रेम रक्तस्राव के कारण भी हो सकता है।

एनीमिया के लक्षण

हमेशा थका।

उठते ही चक्कर आना।

त्वचा और आंखों का छिद्र और पीलापन

असामान्य दिल की धड़कन।

सांस लेने मे तकलीफ।

पैरों और हथेलियों के ठंडे पैर।

एनीमिया की रोकथाम और उपचार

एनीमिया से बचने के लिए अपने आहार में बदलाव करें। आयरन की कमी को दूर करने के लिए अपने आहार में बीट्स, गाजर, टमाटर और अनुभवहीन पत्तेदार सब्जियों को अपलोड करें।

इस बीच, सब्जियों को तैयार करते समय लोहे की कढ़ाई का उपयोग करें। इससे खाने में आयरन की मात्रा बढ़ेगी और फ्रेम को आयरन मिलेगा।

चने और चने का सेवन एनीमिया के लिए उपयोगी है। हो सके तो काले गुड़ का भोग लगाएं। काला गुड़ हीमोग्लोबिन के उत्पादन में मदद करता है।

अब कैल्शियम की उच्च खुराक का उपयोग न करें। छोटी खुराक में लें।

यदि लोहे की कमी फ्रेम के साथ अधिक है, तो डॉक्टर द्वारा निर्धारित अनुसार आयरन की गोलियां भी ली जा सकती हैं।

Ad