आज से गौला नदी से उपखनिज नही खरीदेंगे बरेली रोड़ के छह स्टोन क्रशर


लालकुआं: खनन विभाग के शासनादेश के अनुरूप उपखजिन खरीदने का लक्ष्य पूरा होने पर बरेली रोड़ के छह स्टोन क्रशरों ने आज से उपखनिज खरीद बंद करने का निर्णय लिया। क्रशर स्वामियों ने वन निगम व खनन विभाग को मामले की लिखित सूचना दे दी है। जिसके बाद गौला नदी में चलने वाले वाहन स्वामियों में हड़कंप मच गया है।
खनन निदेशालय देहरादून द्वारा गत जनवरी माह में शासनादेश जारी कर नैनीताल जनपद में हल्द्वानी व लालकुआं में स्थित स्टोन क्रशरों को वर्ष भर में गौला नदी से उपखनिज खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया था। जिसमें निर्धारित लक्ष्य से अधिक उपखनिज खरीदने पर उसे अवैध खनन मानते हुए कार्यवाही का प्रावधान रखा गया है। साथ ही तय लक्ष्य से अधिक उपखनिज खरीद प्रमाणित होने पर क्रशर का ई पोर्टल बंद करने की चेतावनी दी गई है। इधर खनन विभाग द्वारा जारी लक्ष्य के पूरा होने पर बरेली रोड़ के लालकुआं स्ट्रोन क्रशर, हिमालया स्टोन क्रशर, हिमालया ग्रिड, उत्तराखंड स्टोन इंडस्ट्रीज, देवभूमि स्टोन क्रशर व सागर स्टोन क्रशर ने बुधवार से उपखनिज खरीद बंद करने का निर्णय लिया है। क्रशर स्वामियों ने खनन विभाग व वन विकास निगम को इस आशय की जानकारी लिखित रूप से दे दी है। क्रशर स्वामियों का कहना है कि 2020 की नीति के अनुरूप क्रशर में भंडारण की अनुमति तीन मीटर से पांच मीटर उचाई थी। लेकिन नई खनन नीति में खनन विभाग ने ज्यादा क्षमता वाले क्रशर को कम व कम क्षमता वाले क्रशर को अधिक उपखनिज खरीद का लक्ष्य दे दिया गया है। जिससे सरकार को राजस्व का नुकसान तो हो ही रहा है वही क्रशर व वाहन स्वामी भी परेशान हो रहे है। इधर क्रशर उपखनिज खरीद बंद रखने के निर्णय के बाद गौला नदी के वाहन स्वामियों में सरकार के नीति के खिलाफ आक्रोश है। उन्होने आंदोलन की चेतावनी दी है।


 

Ad