उत्तराखंड के इस बड़े होटल में कोरोना के 76 मामले सामने आने से मचा हड़कंप

ऋषिकेश। उत्तराखंड में ऋषिकेश-बदरीनाथ नेशनल हाईवे पर ताज होटल में कोरोना के 76 मामले सामने आए हैं। इतनी बड़ी संख्या में कोरोना के मामले सामने आने के बाद जिला प्रशासन ने होटल को तीन दिन के लिए बंद कर दिया है। होटल को पूरी तरह से सेनेटाइज किया जाएगा। कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने के बाद होटल ने फिलहाल पर्यटकों की बुकिंग लेनी बंद कर दी है। सूत्रों की मानें तो सभी कोरोना संक्रमित होटल के कर्मचारी हैं।

गौरतलब है कि ताज होटल में कुछ दिन पहले कुछ लोगों के सैंपल लिए गए थे, इनमें 25 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अन्य स्टाफ के भी सैंपल लिये थे, जिसके बाद कर्मियों में वायरस की पुष्टि हो गई है। कोरोना संक्रमित स्टाफ को आइसोलेट किया जा चुका है। एसएसपी टिहरी तृप्ति भट्ट ने बताया कि होटल स्टाफ में कोरोना संक्रमण के मामले आने के बाद होटल को सेनेटाइज करने के लिए बंद किया गया है। उत्तराखंड में पिछले कई दिनों से कोरोना के मामलों में इजाफा हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से उत्तराखंड बॉर्डर आशारोड़ी चेकपोस्ट पर छत्तीसगढ़, केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और तमिलनाडु से आने वालों की अनिवार्य जांच की गई। दिल्ली समेत बाकी क्षेत्रों से आने वालों की रैंडम जांच भी हो रही है। सीएमओ डॉ. अनूप डिमरी के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग की टीम एक शिफ्ट में 80 से 90 और निजी लैब तीन शिफ्ट में 600 से अधिक जांच कर रही है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से देहरादून स्थित जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर जांच बढ़ाई गई है। डॉ. उज्जवल त्यागी की अगुवाई में दो टीमें काम कर रही हैं। इनमें से एक स्वास्थ्य विभाग और एक निजी लैब की टीम है। कई लोग जांच रिपोर्ट लेकर आ रहे हैं। सुबह के समय फ्लाइट के लोगों की जांच स्वास्थ्य विभाग, जबकि दोपहर एवं शाम की फ्लाइटों से आने वालों की जांच निजी लैब टीम कर रही है।

Ad