ओएलएक्स में फर्जी आईडी बनाकर स्कूटी बेचने के बहाने महिला से ठगे 19 हजार

खबर शेयर करें -


अल्मोड़ा। कोतवाली पुलिस ने ओएलएक्स पर फर्जी आईडी बनाकर लोगों को ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। मामले में पुलिस ने राजस्थान के भरतपुर से दो लोगों को गिरफ्तार किया है। जिनके पास से मोबाइल सेट, 10 सीलबंद सिम व ठगे हुए पैसे भी बरामद किए गए हैं।
बता दें कि 23 जनवरी को नगर के सोल्जर्स कॉर्नर दुखालखोला के किशन सिंह बिष्ट की पत्नी राजुल द्वारा कोतवाली में तहरीर देते हुए धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया गया। जिसमें उसने बताया कि इंटरनेट साइट ओएलएक्स में सस्ती स्कूटी देखकर उसमें संबंधित व्यक्ति से बातचीत की। स्कूटी बेचने वाले ने अपने आप को सैनिक अधिकारी बताते हुए तबादले के कारण स्कूटी भेजने की मजबूरी बताई। जिस पर राजुल ने स्कूटी स्वामी के खाते में गूगल पे के जरिए तीन बार में 19 हजार रुपये ट्रांसफर कर दिए। निर्धारित समय में स्कूटी नहीं मिली तो ठगी का एहसास होने पर महिला ने पुलिस की शरण ली। जिसके बाद पुलिस कप्तान पंकज भट्ट द्वारा विशेष टीम का गठन कर मामले के खुलासे में लगा दिया। सर्विलांस की सहायता से ठगों की लोकेशन राजस्थान के भरतपुर में मिली। जिसके बाद पुलिस ने भरतपुर में डेरा डाल दिया। गुरुवार को पुलिस ने भरतपुर से गैंग चला रहे दो ठगों को पकड़ लिया। पूछताछ में उन्होंने अपना नाम राहुल पुत्र सुल्तान निवासी गोपालगढ़ व तौफीक पुत्र लियाकत निवासी कठोल थाना पहाड़ी जिला भरतपुर बताया। पुलिस की पूछताछ में दोनों ने अहम सुराग भी खुले हैं। पता चला है कि दोनों ओएलएक्स पर फर्जी आईडी बनाकर कई लोगों को ठग चुके हैं। पुलिस गिरोह के अन्य सदस्यों की भी तलाश कर रही है।