गरीब हूं तो क्या 10 हजार में बिक जाऊं, वॉट्सएप चैट से खुलासा, अंकिता पर था VIP गेस्ट को सर्विस देने का दबाव

उत्तराखंड में रिसॉर्ट की रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या के मामले में पुलिस को नए तथ्य हाथ लगे हैं। हत्या से पहले रिसेप्शनिस्ट ने अपने दोस्त को रिसॉर्ट के अवैध धंधे के बारे में तमाम व्हाट्सअप मैसेज भेजे थे।

उसने मैसेज भेजकर अपने दोस्त को बताया था कि रिसॉर्ट मालिक उसे वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर कर रहे हैं। मैसेज में अंकिता ने अपने दोस्त को लिखा था, ”मैं गरीब हो सकती हूं, लेकिन 10 हजार रुपये के लिए मैं खुद को बेचूंगी नहीं…”

 पुलिस ने मोबाइल रिकवर करने के बाद मैसेज की जांच शुरू कर दी है। मैसेज से आरोपों की पुष्टि हो रही है। एक मैसेज में युवती ने लिखा है कि वे मुझे एक वेश्या में बदलने का प्रयास कर रहे थे।

दस हजार रुपये प्रति कस्टमर

रिसॉर्ट की रिसेप्शनिस्ट की हत्या के पहले उसके भेजे गए मैसेजस के स्क्रीनशॉट, अब कई जगह शेयर किए जा रहे हैं। युवती ने अपने दोस्त को व्हाट्सअप कर बताया था कि रिसॉर्ट में दस हजार रुपये के एवज में कस्टमर्स को स्पेशल सर्विस उपलब्ध कराया जाता है। उसने बताया कि कैसे उसे कस्टमर्स के पास जाने को मजबूर किया जाता था। उसने अपने दोस्त को मैसेज किया कि वे मुझे एक वेश्या में बदलने की कोशिश कर रहे हैं।

मर्डर के पहले पीड़िता ने अपने दोस्त को बताया कि रिसॉर्ट में एक व्यक्ति ने उसे गलत तरीके से छुआ था तो पुलकित आर्या व मैनेजर वगैरह ने नशे का हवाला देकर कुछ भी नहीं करने के लिए दबाव बनाया।शनिवार को युवती की लाश एक नहर में मिली थी। शव बरामद होने के बाद उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने यह बताया कि 19 वर्षीय युवती पर रिसॉर्ट मालिक द्वारा मेहमानों को विशेष सर्विसं प्रदान करने के लिए दबाव डाला जा रहा था। रिसॉर्ट में स्पेशल सर्विस का मतलब सेक्स करना था जो कस्टमर्स को दस हजार रुपये में प्रदान किया जाता था। यह सब स्पा की आड़ में दिया जाता रहा।

Ad