राहुल छिमवाल बने नए जिलाध्यक्ष, 22 साल बाद बदला कांग्रेस का नैनीताल जिलाध्यक्ष

कांग्रेस ने संगठन में फेरबदल करते हुए नए जिलाध्यक्षों की नियुक्ति कर दी है। सूची में जिस जिले के अध्यक्ष ने सबको चौंकाया है, वह है नैनीताल जिला। 22 साल के बाद या यूं कहें कि उत्तराखंड राज्य गठन के बाद पहली बार नैनीताल जिले के लिए कांग्रेस ने जिले में अपने मुखिया का चेहरा बदला है। इस पद पर अभी तक सतीश नैनवाल की ताजपोशी थी, मगर उनकी जगह अब हल्द्वानी महानगर अध्यक्ष राहुल छिमवाल को यह अहम जिम्मेदारी सौंप दी गई है। राहुल ने छात्र राजनीति से शुरूआत की है।

1998 में छात्र राजनीति से सियासी पारी शुरू करने वाले राहुल एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष और यूथ कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष रह चुके हैं।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने जिला एवं महानगर इकाइयों के कार्यकारी अध्यक्षों की रविवार को घोषणा की। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने केन्द्रीय नेतृत्व के अनुमोदन के बाद लिस्ट जारी की। जिसमें सुभाषनगर हल्द्वानी निवासी राहुल छिमवाल को जिला कांग्रेस कमेटी नैनीताल का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया है। अब तक सतीश नैनवाल जिलाध्यक्ष थे। वे 2002 से 2022 तक इस पद पर रहे।

जिले में पार्टी 17 साल से नया जिलाध्यक्ष नहीं ढूंढ सकी थी। लोकसभा, विधानसभा और निकाय चुनाव में मिली हार के बाद से लगातार जिले में संगठन में बदलाव की मांग उठ रही थी। खुद सतीश कई बार पदमुक्त करने की गुहार पीसीसी से लगा चुके थे। लेकिन, ऐसा न हो सका। इधर, करन माहरा ने प्रदेश अध्यक्ष बनते ही संगठन बदलाव के संकेत दे दिए थे। जिसके बाद अगस्त से सांगठनिक चुनाव की प्रक्रिया शुरू हुई। नैनीताल जिले में जिलाध्यक्ष पद के लिए पहले से ही राहुल छिमवाल को प्रबल दावेदार माना जा रहा था। रविवार को जारी हुई सूची ने इस बात पर मुहर लगा दी है। बहरहाल, निवर्तमान जिलाध्यक्ष नैनवाल को पीसीसी में बड़ा दायित्व मिलने के कयास लगाए जाने लगे हैं।

Ad