गौला नदी में अवैध खनन की रोकथाम के लिए वन विभाग अलर्ट

लालकुआं: गौला नदी में उप खनिज निकासी बंद होने के बाद वन विभाग द्वारा नदी में उप खनिज के अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए प्रभावी कार्यवाही शुरू कर दी है। जिसके लिए वन विभाग द्वारा खनन निकासी गेटों पर ताले लगा दिए गए हैं। वहीं नदी में जाने वाले संभावित रास्तों पर खाई खोदी जा रही हैं। इसके अलावा अवैध खनन पर प्रभावी रोकथाम के लिए तीनों पारियों में गश्त की जा रही है।
यह भी पढ़े 👉 कोरोना संक्रमण के लिए मंत्री मंडल की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय
केंद्रीय मृदा एवं जल संरक्षण कमेटी द्वारा उपखनिज चुगान का लक्ष्य पूरा होने के बाद गत सप्ताह गौला नदी को बंद कर दिया गया है। इस बार गौला नदी के मानसून सत्र से काफी पहले बंद होने के कारण अवैध खनन की संभावनाएं भी बढ़ गई है। जिसको देखते हुए वन विभाग द्वारा अवैध खनन पर रोकथाम लगाने के लिए प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। जिसके तहत नदी के सभी 11 निकासी गेटों के बैरियर को गिरा कर वहां पर खाई खोदने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। साथ ही नदी में जाने वाले अन्य संभावित रास्तों पर भी खाई खोदी जा रही है। इसके अलावा नदी में गश्त करने के लिए वन विभाग की टीम बनाई गई है। जो तीनों पारियों में गस्त करेगी। गौला रेंज के वन क्षेत्राधिकारी आर पी जोशी ने बताया कि गौला नदी बंद होने के बाद अवैध खनन की शिकायत बढ़ जाती है। जिसको देखते हुए नदी में जाने वाले रास्तों पर खाई खोदने के साथ ही नियमित गश्त की जा रही है। उन्होंने कहा कि अवैध खनन करते हुए पकड़े जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Ad