चूड़ा- दही खाकर भगवान का नाम जपते निकले घर से, 90 मिनट बाद पत्नी को मिली हत्या की खबर

खबर शेयर करें -

मुजफ्फरपुर.अहियापुर चौक पर हुए शिक्षक गोपाल कुंवर की हत्या की खबर सुनते ही पत्नी चंचला देवी चीत्कार मारकर रोने लगी. अहियापुर चौराहा पर मृत अवस्था में गोपाल कुंवर के पड़े होने की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही मोहल्ले के दर्जनों लोगों की भीड़ उनके घर पर जुट गयी.

पत्नी चंचला देवी बार- बार बेहोश हो रही थी. कुछ ही देर बाद दामूचक से चचेरे भाई का परिवार नागमनी कुंवर व उनकी पत्नी समेत अन्य रिश्तेदार भी पहुंच गए. पत्नी की चीत्कार सुनकर आसपास के लोगों की आंखे नम हो गयी. चंचला देवी बार- बार एक ही बात कह रही थी कि उसने अपने पति को चूड़ा- दही चीनी नाश्ता कराया था. वह इतनी जल्दी में थे कि दिन के लिए भोजन नहीं ले जा रहे थे. लेकिन, उनको किसी तरह से दूसरे टिफिन में खाना पैक करके दिया. वह भगवान का नाम जपते हुए चार बजे घर से ड्यूटी जाने के लिए निकले. हरेक सप्ताह में वह शनिवार को ड्यूटी करने के बाद घर चले आते थे व सोमवार की अहले सुबह घर से निकलते थे. पैदल जीरोमाइल चौक जाते और वहां से ऑटो लेकर बैरिया पहुंचते. फिर, बस में बैठकर पूर्वी चंपारण जिले के संग्रामपुर जाते थे. रोजाना छह बजे जब वह बस में बैठते थे तो उनको कॉल करते थे. आज जब छह बजे तक कॉल नहीं आया तो वह हाथ में ही मोबाइल लेकर सो गए थे. इस बीच मोहल्ले का एक व्यक्ति आकर उसके पति का फोटो दिखाया. इसमें वह सड़क किनारे मृत पड़े हुए थे.उनके पीठ पर बैग टांगा ही हुआ था. इधर, मृतक का दोनों बेटा इंजीनियर है. वर्तमान में दोनों बेंगलुरु में पोस्टेड है. पिता की हत्या की खबर सुनते ही दोनों ने पटना के लिए पहली फ्लाइट पकड़ ली है. रात्रि 11 बजे तक उनकी मुजफ्फरपुर पहुंचने की संभावना है. पैतृक गांव में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. मृतक के दो छोटे दो भाई गोविंद कुंवर व अरविंद कुंवर गांव में ही रहकर खेती बाड़ी करते थे. पोस्टमार्टम हाउस के बाहर जुटे रहे शिक्षक व छात्र मृत शिक्षक गोपाल कुंवर अहियापुर इलाके में काफी फेमस थे. सरकारी शिक्षक बनने से पहले वह एक प्रतिष्ठित स्कूल में लंबे समय तक प्रिंसिपल रहे हैं. उनकी हत्या की खबर सुनते ही दर्जनों की संख्या में उनकी सहकर्मी शिक्षक व उनसे पढ़े छात्र पोस्टमार्टम हाउस के बाहर पहुंच गए. गोपाल कुंवर से पढ़े छात्र जीरोमाइल के शस्वत कुमार का कहना था कि अहियापुर में स्मैकियर का आतंक पहले से ही थी. अब लूटपाट के दौरान हत्या भी कर रहे हैं.