M-seal का उपयोग कर बैंक खाते से उड़ाए रुपये, 3 आरोपी पुलिस गिरफ्त में

M-seal का उपयोग कर बैंक खाते से उड़ाए रुपये’ बात सुनने में अटपटी जरूर लग सकती है लेकिन है सौ फीसदी सच। जी हां भिण्ड जिला पुलिस ने M-seal के जरिये भोले भाले ग्रामीणों के बैंक खाते से रुपये निकाले जाने के मामले का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। फरियादी कृपाल सिंह की शिकायत पर कार्यवाही करते हुए 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

दरअसल पिड़ोरा गांव के रहने वाले कृपाल सिंह ने बरोही थाना पहुंचकर शिकायत की कि उसके सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के खाते से लगभग 43 हजार रुपये निकाल लिए गए हैं। बैंक प्रबंधक द्वारा बताया गया यह रुपए कियोस्क द्वारा अंगूठा लगाकर निकाले गए हैं। जबकि उसके द्वारा लंबे समय से सेंट्रल बैंक के खाते से कोई लेनदेन ही नहीं किया गया। जिसके बाद बरोही के तत्कालीन थाना प्रभारी शिवप्रताप ने मामले की पड़ताल करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि वह भोले भाले ग्रामीणों को कभी फ्री सिलेंडर तो कभी अन्य सरकारी योजनाओं में लोन दिलाने के नाम पर उनके अंगूठे के निशान M-seal पर ले लिए जाते थे और फिर उसपर फेविकोल लगाकर फिंगर प्रिंट ले लेते थे, फिंगर प्रिंट मशीन द्वारा भी आसानी से रीड कर लिये जाते थे। इसके बाद वह पेमेंट करने वाली थर्ड पार्टी पोर्टल के जरिये फिंगर प्रिंट लगाकर बैंक खाते से रुपये उड़ा देते थे।

फरियादी कृपाल सिंह पुत्र गुन्धारी लाल राठौर निवासी ग्राम पिडोरा थाना बरोही भिण्ड ने थाना बरोही में एक शिकायत दर्ज कराई गयी थी जिसमें फरियादी द्वारा बताया गया कि उसका सेन्ट्रल म०प्र० ग्रामीण बैंक भिण्ड मे खाता है उक्त बैंक एकाउन्ट में रुपये डले हुए थे तथा मेरे द्वारा कई वर्षों से बैंक खाता चैक नहीं किया गया था जब मैंने जुलाई महीने में अपने खाते से रुपये निकालने के लिये बैंक में गया था तो मेरे बैंक खाते में केवल 30 पैसे होना बताया गया फिर मैंने शाखा प्रबन्धक से पूछताछ की तो शाखा प्रबन्धक द्वारा बताया गया कि तुम्हारे खाते में जो पैसे थे वह अंगूठा लगाकर निकाले गये हैं फिर मैंने अपनी बैंक की पास बुक में इन्ट्री कराई तो उसमे पता चला कि दिनांक 09.10.21 को दस-दस हजार रुपये करके 30,000 रुपये, दिनांक 10.10.21 को 6930 रुपये, दिनांक 04.03.22 को 2000 रुपये, दिनांक 19.05.22 को 2047 रुपये एवं दिनांक 01.06.22 को 2000 रुपये कुल मिलाकर 42977 रुपये निकाले गये हैं जब शाखा प्रबन्धक द्वारा बताया गया कि तुम्हारे पैसे अंगूठा लगाकर निकाले गये हैं तो मुझे याद आया कि दिनांक 08.10.21 को मैं  पुरोहित ढाबा पर खाना खाकर सो गया था और मेरे साथ एक एतहार का लड़का था जिसने मेरा अँगूठा सोते समय लगवा लिया था मुझे सन्देह था कि उसने ही मेरा अँगूठा लगवाया है और मेरे खाते से पैसे निकाले हैं जिस पर से थाना बरोही में अपराध क्र0 122 / 22 धारा 420 भादवि कायम कर विवेचना में लिया गया है। इसी प्रकार आरोपियों द्वारा लगभग 7-8 माह पूर्व गोहद निवासी राकेश वाथम के साथ लॉन निकलवाने के नाम पर भी इसी प्रकार एमसील पर फिन्गर प्रिन्ट तथा आधार कार्ड नम्बर की जानकारी लेकर उसके बैंक खाते से लगभग 1,20,000 रुपये निकाल लिये गये थे जिस पर से थाना गोहद में पृथक से अपराध क्र0 318 / 22 धारा 420 भादवि दर्ज किया गया था।

वारदात का तरीका-

उक्त प्रकरण की विवेचना के फरियादी के बैंक खाता की जानकारी प्राप्त की गयी जिसमें अंगूठा लगाकर अंसारअली की आईडी से पैसे निकाला पाया गया तो फरियादी द्वारा बताये गये व्यक्ति अन्सारअली नि० ऐतहार से पूछताछ की गयी तो अन्सार अली द्वारा बताया गया कि मैंने पिछले साल अक्टूबर माह में अपने साथी सन्तोष बाल्मीकि और मनोज बघेल के साथ मिलकर कृपाल राठौर का सोते समय अंगूठे का फिन्गर प्रिन्ट एमसील पर ले लिया था फिर एमसील के ऊपर  फेवीकॉल डालकर, सुखाकर अंगूठे का फिन्गर प्रिन्ट क्लोन तैयार कर लिया था तथा उसके फोन से आधार कार्ड नम्बर भी ले लिया था फिर मैंने अपनी कियोस्क आई-डी के माध्यम से थार-पे एप में लॉगिन कर फिन्गर प्रिन्ट व आधार कार्ड नम्बर का उपयोग कर कृपाल के बैंक खाते से रुपये निकाल लिये थे तथा आरोपीगणों द्वारा कुछ पैसे आपस में बाँट लिये गये थे तथा बचे हुए पैसों से बुलेट मोटर सायकिल भी खरीद ली गयी थी।

Ad