रामनगर : जंगल में लकड़ी लेने गई महिला पर बाघ ने हमला कर उतारा मौत के घाट, परिजनों में कोहराम

खबर शेयर करें -

बीते शनिवार को रामनगर वन प्रभाग के अन्तर्गत चुकुम गांव में गोपाल राम को बाघ द्वारा मार दिए जाने की घटना को लोग भूले भी नहीं थे कि कार्बेट पार्क के ढ़ेला रेंज में बाघ ने एक महिला को मौत के घाट उतार दिया। घटना से सावल्दे गांव में लोगों में भय के साथ साथ रोष भी व्याप्त है। घटना सावल्दे के कसेरवा श्रोत की है।

बताया जाता है कि कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के ढेला रेंज के अंतर्गत पड़ने वाले कसेरूवा नाले के पास जंगल में लकड़ी लेने गई एक महिला पर बाघ ने हमला करके उसे मौत के घाट उतार दिया। महिला की मौत की सूचना के बाद ग्रामीण और परिजनों में कोहराम मच गया, वहीं महिला की मौत की सूचना ग्रामीणों द्वारा वन विभाग को दी गई।

वन विभाग की टीम व ग्रामीणों के द्वारा जंगल में रेस्क्यू ऑपरेशन चला कर मृतक महिला के शव को कशेरुवा नाले के पास जंगल के काफी अंदर से बरामद किया। वहीं घटना रविवार की सांय साढ़े चार बजे के आसपास की बताई जा रही है। वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि लगातार ग्रामीण क्षेत्र में बाघ का आतंक है जिससे ग्रामीणों में दहशत का माहौल है।

प्रत्यक्षदर्शी ग्रामीण महिला गंगा देवी ने कहा कि वह आज दोपहर चार बजे लकड़ी बीनकर आ रहे थे इसी बीच सांवल्दे कसेरवा नाले के पास उनके सामने ही बाघ महिला को उठाकर ले गया। हल्ला करने के बावजूद वह महिला को जंगल के अंदर ले गया। महिला  को खोजने वाले  ग्रामीण ने कहा कि यह जंगल के अंदर लकड़ी बीनने गए थे। उन्होंने कहा कि यह महिला 8-10 महिलाओं के साथ लकड़ी बीनने गई थी और इसी बीच जंगल में इस महिला पर बाघ ने हमला कर दिया।सीटीआर के वन क्षेत्राधिकारी की टीम व ग्रामीणों द्वारा इस महिला के शव को काफी अंदर से बरामद किया।

ग्रामीण महेश जोशी ने बताया कि कल चुकुम गांव में एक व्यक्ति को बाघ ने हमला करके उसे मौत के घाट उतार दिया था तो वहीं आज सावल्दे पश्चिमी गांव की महिला को बाघ ने हमला करके उसे मौत के घाट उतार दिया। मृतक महिला का नाम दुर्गा देवी उम्र 50 वर्ष बताई गई है। महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल ले जाया गया है। बताया जाता है कि महिला के पति दान सिंह का कुछ महीने पूर्व ही देहांत हो गया था। दान सिंह की दो पत्नियां है। मृतका उसकी दूसरी पत्नी थी। इसका एक पुत्र राजू बसोली बस दुर्घटना में मारा गया था। अब कहने को दान सिंह की एक पत्नी ही जीवित बची है उसके भी कोई संतान नही है।