छह साल में नही बन पाया हल्दूचौड़ मैं अस्पताल

विपिन जोशी, हिमालय प्रहरी

हलदूचौड़: कोरोना काल में पूरा विश्व स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत बनाने के लिए प्रयासरत है। लेकिन लालकुआं विधानसभा के हल्दूचौड़ में छह साल पहले प्रारंभ हुआ 30 बैड के अस्पताल का निमार्ण कार्य पूरा होना तो दूर स्वास्थ्य केंद्र अपना आकार भी नही बना पाया है। परिणाम स्वरूप क्षेत्रवासियों को उपचार के लिए दर दर भटकना पड़ रहा है। ऐसे में विधायक नवीन दुम्का द्वारा फरवरी 2021 में अस्पताल के शुभारंभ के दावे पर सवालिया निशान लग रहे है।
बतादें कि राष्ट्रीय राजमार्ग में रुद्रपुर से हल्द्वानी के बीच कोई भी ऐसा अस्पताल नही है। जिसमें आपातकालीन स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें। इसके अलावा बरेली रोड़ की करीब डेढ़ लाख की आबादी के साथ ही बिंदुखत्त्ता व लालकुआं के लाखों लोगों को भी उपचार के लिए हल्द्वानी व अन्य शहरों की ओर रुख करना पड़ता है। जिसको संज्ञान में लेकर एक नवंबर 2014 को तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र नेगी, वित्त मंत्री इंदिरा हृदयेश व श्रममंत्री हरीश दुर्गापाल ने हल्दूचौड़ में 30 बेड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नींव रखी थी। निर्माण का जिम्मा उत्तराखंड राज्य अवस्थापना विकास निगम यानी ब्रिडकुल को मिला। शिलान्यास के वक्त बेसमेंट सहित तीन मंजिला अस्पताल, अनावासीय व आवासीय भवन की लागत करीब पौने आठ करोड़ रुपये तय की गई थी। हल्दूचौड़ में एक नवंबर 2014 को स्वास्थ्य केंद्र का शिलान्यास किया गया। जिसकी पहली किस्त 19 जून 2015 जारी की गई। दो सितंबर 2016 में भूमि पूजन के साथ अस्पताल निर्माण का कार्य प्रारंभ किया गया। लेकिन छह वर्ष पूरे होने हो है लेकिन अस्पताल अभी भी निर्माणाधीन ही है। गत वर्ष विधायक नवीन दुम्का ने कार्यदाई संस्था को धन आवंटित करने की बात कहकर फरवरी 2021 में अस्पताल का शुभारंभ करने का दावा किया था। लेकिन फरवरी भी चली गई।


अस्पताल ही अधूरा तो कब बनेगा आवासीय भवन
लालकुआं: पैसा नही मिलने के कारण साढ़े पांच साल में अस्पताल निमार्ण कार्य भी पूरा नही हो सका। ऐसे में आवासीय भवन निर्माण का कार्य कब प्रारंभ होगा और उसको बनने में कितना समय लगेगा यह भविष्य के गर्भ में है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि सरकार लोगों के स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह बनी हुई है।

लालकुआं में अस्पताल प्रारंभ अधर में हल्दूचौड़
लालकुआं: हल्दूचौड़ में 30 बैड के अस्पताल की घोषणा के दौरान ही लालकुआं के वार्ड नंबर एक में भी 10 बेड का अस्पताल शिलान्यास रखी गई थी। मौजूदा समय में लालकुआं स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण पूरा होकर सुविधाएं सुविधाएं भी मिलने लगी हैं। लेकिन हल्दूचौड़ अस्पताल का काम आज भी कछुआ चाल से ही रेंग रहा है।

Ad