बीआरओ कर्मी ने एनओसी देने की मांग को लेकर जिलाधिकारी को दिया ज्ञापन

उत्तरकाशी: सीमा सड़क संगठन सिक्किम में कार्यरत उत्तरकाशी निवासी अनिल देवरानी ने बीआरओ अधिकारियों पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया है। जिसमे कर्मी ने न्याय की गुहार लगाई है।

यह भी पढ़े- कोरोना अपडेट, उत्तराखंड में बुधवार को मिले 1953 कोरोना संक्रमित, 13 लोगो की हुई मृत्यु

बीआरओ सिक्किम में तैनात अनिल देवरानी ने जिलाधिकारी मयूर दीक्षित को दिए ज्ञापन देते हुए बीआरओ के अधिकारियों पर कई आरोप लगाए है। जिसमें अनिल देवरानी ने कहा कि गत नवंबर में उसे हार्ट अटैक आया । प्राथमिक उपचार कराने के बाद अधिकारियों ने उसे घर भेज दिया। जिसके बाद एक माह तक वह देहरादून में अस्पताल में रहा। जहा पर उसका ऑपरेशन भी किया गया। उपचार के बाद चिकित्सकों ने आराम करने की सलाह दी। चिकित्सकों की सलाह पर उसने विभाग से स्वैच्छिक सेवानिवृति के लिए आवेदन किया । लेकिन बीआरओ के अधिकारियों ने 1.55 लाख रुपये जमा करने के निर्देश दिए। पीड़ित का कहना है कि उसकी अधिकांश पूंजी इलाज में खर्च हो चुकी है । बीआरओ ने अभी तक दो लाख रुपये का मेडिकल भुगतान भी नहीं किया । उसका वेतन भी रोक दिया है। वहीं सीमा सड़क संगठन सिक्किम के कमांडर राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि अनिल देवरानी को 1.55 लाख की धनराशि जामा करनी होगी । तभी एनओसी मिल सकती है । कुछ मेडिकल भुगतान कर दिया गया है । इधर पीड़ित कर्मी अनिल देवरानी ने कहा कि 27 साल की नौकरी करने के बाद भी विभाग द्वारा उसका उत्पीड़न किया जा रहा है। जिस कारण वहां आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। उन्होंने जिलाधिकारी से न्याय दिलाने की मांग की है।

Ad